झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का पलामू में हुआ आगमन

धनंजय तिवारी रिपोर्टर तहलका न्यूज़

पलामू संवाददाता, धनंजय तिवारी. झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन का पलामू में हुआ आगमन ग्रामीण व्यवस्था मजबूत बनाने के मकसद से बनाई जा रही योजनाएं मुख्यमंत्री
पलामू – ग्रामीण व्यवस्था की मजबूती सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है । इसी वजह से ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले गरीबों, जरूरतमंदों, आदिवासियों, अनुसूचित जाति, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों , महिलाओं, बुजुर्गों और नौजवानों समेत समाज के सभी वर्ग और तबके को केंद्र में रखकर पूरे होमवर्क के साथ कार्य योजनाएं बनाकर उसे धरातल पर उतारने का काम किया जा रहा है। ये योजनाएं ग्रामीणों की दशा और दिशा को तय करेंगी। मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने आज मेदिनीनगर में “आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार” के अंतर्गत पलामू प्रमंडल स्तरीय मेगा परिसंपत्ति वितरण समारोह में कही। उन्होंने कहा कि यहां के लोगों को मान सम्मान और स्वाभिमान के साथ जीविकोपार्जन का अवसर दे रहे हैं । क्योंकि, इसी की बदौलत राज्य में विकास को गति मिलेगी
मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में कई ऐसे जटिल इलाके हैं। ऐसे में वहां सरकार की योजनाएं कैसे पहुंचेगी यह सहज ही समझा जा सकता है । वहीं, सुदूर ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों को योजनाओं का लाभ लेने के लिए प्रखंड अथवा जिला मुख्यालय आना पड़ता है । लेकिन, यहां काम कराने में कई कठिनाइयां पैदा होती है। अगर एक -दो प्रयास में भी उनके कार्य नहीं होते हैं तो फिर वे योजनाओं से जुड़ने की बात सोचना छोड़ देते हैं। इसी को ध्यान में रखकर “आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार” कार्यक्रम शुरू किया गया है । इस कार्यक्रम के माध्यम से आपको योजनाओं की जानकारी देने के साथ योजनाओं से जोड़ा भी जा रहा है । इसके लिए सरकार आपके द्वार पर आ रही है। आपसे आग्रह है कि आप अपना सहयोग और सहभागिता सुनिश्चित करें । मुख्यमंत्री ने कहा कि “आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार” कार्यक्रम के तहत पंचायतों में आयोजित हो रहे शिविरों में जिस तरह लोग आ रहे हैं, वह यह बताने के लिए काफी है कि पूरे राज्य में यह कार्यक्रम बेहद सफल हो रहा है। उन्होंने कहा कि पलामू प्रमंडल में लगभग डेढ़ लाख शिकायतें मिल चुकी है । इसमे लगभग 1.30 लाख समस्याओं का निष्पादन किया जा चुका है. मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों के पास ना घर में और ना ही बैंक में पैसा होता है। उनका खेत- खलिहान और पशुधन उनकी पूंजी है। इसी वजह से सरकार किसानों और पशुपालकों के लिए कई योजनाएं शुरू की है, ताकि उनकी आय में बढ़ोतरी और ग्रामीण इलाकों में समृद्धि आ सके । मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी से सारी दुनिया की व्यवस्थाएं ठप्प हो गई थी । झारखंड भी इससे अछूता नहीं था। लेकिन, हमारी सरकार ने कोरोना और लॉकडाउन में भी जीवन और जीविका पर आफत नहीं आने दिया। एक ऐसी व्यवस्था बनाई, जहां किसी तरह की अफरा-तफरी देखने को नहीं मिली । दूसरे राज्यों से मरीजों ने यहां इलाज कराया । वहीं, पूरे देश को झारखंड ने ऑक्सीजन उपलब्ध कराया । लॉकडाउन के दौरान बड़े पैमाने पर प्रवासी मजदूरों की वापसी हुई । इस दौरान महिला मंडलों ने अपनी जान की चिंता किए बगैर लोगों को मुफ्त में भोजन कराया । इसके लिए उन्हें सलाम करते हैं । उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। ऐसे में सावधान और सतर्क रहें। TAHALKANEWS OFFICE CON NO 9198041777

Leave a Reply

%d bloggers like this: