देश में आखिर कबतक रंजिशन पत्रकारों को झूठे मुकदमों में फंसाया जाएगा इस का कब होगा अंत

मुनीश उपाध्याय रिपोर्टर तहलका न्यूज़

कब तक रंजिशन झूठे मुकदमों का शिकार होता रहेगा लोकतांत्रिक भारत का चौथा स्तंभ ? कब तक भ्रष्ट अधिकारियों और कानून से खिलवाड़ करने वाले अपराधियों के साथ – साथ भूमाफियाओं तथा शराब माफियाओं ,खनन माफियाओं की धमकियों के शिकार होता रहेगा कलम का सिपाही ? कब तक सरे आम सड़को पर पत्रकारों का राहु बहता रहेगा ? पत्रकारों के उपर अक्सर पैसे मांगने के आरोप लगाये जाकर मुकद्दमें दर्ज कराते जाते हैं ।और हमारी पुलिस भी जांच किए बैगर पत्रकारों के विरुद्ध मुकदद्मे लिखने को तत्पर रहती है, परन्तु सरकार का ऐसा कौन सा विभाग है जहां पर पैसे के बिना जनता का काम होता हो ? शिकायत मिलने पर सरकार व उसके वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा केवल जांच के आदेश ही क्यों दिये जाते हैं ? पत्रकार की भांति मुकद्दमा दर्ज कराकर जेल नहीं भेजा जाता है क्यों ? एक देश में दो अलग कानून क्यों ? ऐसे और भी अंकों सवाल हैं। जिनका जवाब हमें सरकार से मांगना होगा।अपनी कलम से जनता के कमजोर वर्ग की आवाज उठाने का दावा करने वाले पत्रकार बंधुओं आखिर अपनी आवाज कब उठाओगे ? अरे साथियों आज तो रिक्शा वाले,रेड़ी वाले, मजदुर तक एकता का प्रदर्शन कर रहे हैं। आखिर तुम पत्रकार कब एकता का प्रदर्शन करोगे ? समय आ गया है। एक बनो, मजबूत बनो। एकता के साथ आगे बढ़ते हूं अपनी कलम की धार तेज कर पत्रकारों के हित की अन्देखी कर रही सरकार पर वार करो।कामयाबी तुम्हारे कदम चुमेगी। याद रहे कि अभी नहीं तो कभी नहीं। मुनीश उपाध्याय की रिपोर्ट TAHALKANEWS OFFICE CON NO 9198041777

Leave a Reply

%d bloggers like this: