रामनगरी अयोध्या के महंत जयरामदास महराज को धर्माचार्यों ने किया नमन

  1. श्रीधाम मठ के साकेतवासी महन्त जयरामदास महराज को धर्माचार्यो ने किया नमन, विराट भण्डारा आयोजित

अयोध्या। (वासुदेव यादव) रामकोट क्षेत्र के सुप्रसिद्ध श्रीराम वर्णाश्रम श्रीधाम मठ के साकेतवासी महंत श्री जयरामदासजी महाराज का वार्षिक उत्सव श्राद्ध उपरांत वृहद भंडारा मंगलवार को अपराहन आयोजित किया गया। इस मंदिर के वर्तमान महंत विश्व प्रसिद्ध कथा वाचक जगतगुरु डॉक्टर स्वामी राघवाचार्य जी महाराज के पावन सानिध्य में कार्यक्रम संपन्न हुआ।
इस अवसर पर अयोध्या के सभी संत-महंत शिष्य राजनेताओं ने साकेतवासी महंत जयरामदासजी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उनको नमन व बड़े शिद्दत से याद किया। इसके उपरांत विराट भंडारे का आयोजन हुवा। इसमें पूरी अयोध्या के प्रमुख धर्माचार्य संत-महंत शिष्य नेतागण सामाजिक कार्यकर्ता आदि शामिल रहे। सभी ने महंत जयरामदासजी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर व्यापक प्रकाश डाला। यहां मंदिर के वर्तमान महंत जगतगुरु डॉक्टर स्वामी राघवाचार्य महाराज ने उनको धार्मिक विद्वान, निर्मल छवि व साधुता का उनको मिसाल बताया। उन्होंने कहा स्वामी जी सदैव भगवान के पूजा आराधना में लीन रहते थे। हम सभी को उनके बताए हुए मार्गो पर चलना होगा। जबकि दिगम्बर अखाड़ा के महन्त सुरेशदास, महन्त बिंदु गद्याचार्य स्वामी देवेंद्र प्रसादाचार्य, स्वामी कृपालु जी महाराज, महन्त अवधेश कुमार दास, कथावाचक रत्नेशशरण, महन्त मैथिली रमणशरण, महन्त अर्जुनदास, महन्त नागा रामलखनदास, पूर्व सपा मंत्री पवन पांडेय, मेयर अयोध्या ऋषिकेश उपाध्याय, शेरे यूपी अम्बेडकर के पूर्व विधायक पवन पांडेय, महन्त विवेक अचारी, भाजपा विधायक खब्बू तिवारी, शिक्षक समाजसेवी राजेश उर्फ गुड्डू मिश्र, समाजसेवी शिब्बू मिश्र, रिशु पांडेय, सपा नेता श्रीचंद यादव, बसपा नेता करुणाकर पांडेय, कांग्रेस के नेता सुनील पाठक, साकेत कॉलेज के अध्यक्ष आभाष यादव, छात्र नेता अजय आज़ाद, पूर्व छात्र छात्र संघ अध्यक्ष अनिल सिंह राना, पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष निशेन्द्र मोहन मिश्र गुड्डू भइया, देवेंद्र सिंह, पुजारी जानकी महल पंकज मिश्र व यमबीदास जी हाईटेक बाबा आदि कार्यक्रम में शामिल रहे।
इसके आयोजक जगद्गुरु स्वामी डॉक्टर राघवाचार्य महराज ने आये सभी सन्त-महन्त आदि को अंग वस्त्र दक्षिणा आदि भेंटकर सबका स्वागत सम्मान किए। इस दौरान हजारो सन्त भक्त शिष्यो ने प्रसाद ग्रहण किए। कार्यक्रम सुबह से देर शाम तक संचालित होता रहा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: