कर्मचारियों की हड़ताल जारी:निजीकरण के विरोध में बैंक कर्मियों की हड़ताल का दूसरा दिन, 30 हजार करोड़ का लेन-देन प्रभावित

निजीकरण के खिलाफ बैंक कर्मियों की दो दिवसीय हड़ताल मंगलवार को भी जारी है। पहले दिन करीब 30 हजार करोड़ के लेनदेन प्रभावित हुआ। हड़ताल की वजह से आम जनता एटीएम में कैश न होने से बैंकों में कामकाज ठप होने से परेशान रही। प्रदेश के 26 जिलों के सात हजार बैंक कर्मी तो देश के 45 ग्रामीण बैंकों के एक लाख बैंक कर्मी इस हड़ताल में शामिल है। सोमवार को शुरू हुई हड़ताल दूसरे दिन मंगलवार शाम समाप्त हो जाएगी।

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों के निजीकरण करने की केंद्र सरकार के प्रयासों के विरोध में दो दिवसीय देशव्यापी हड़ताल का आवाहन सोमवार को किया गया था। पहले दिन के बाद दूसरे दिन भी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के प्रधान कार्यालय के सामने विशाल सभा के बाद बैंक कर्मियों ने जोरदार प्रदर्शन किया। नेशनल कन्फेडरेशन ऑफ बैंक इंप्लाइज के प्रदेश महामंत्री केके सिंह ने बताया कि बड़े औद्योगिक घरानों को द्वारा बैंकों को खूब लूटा जा रहा है। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन के महामंत्री दिलीप चौहान ने बताया कि बैंक कर्मी सरकार को मनमानी नहीं करने देंगे।

ऑल इंडिया बैंक एंप्लाइज एसोसिएशन के दीप बाजपेई ने कहा कि सरकार जनता की गाढ़ी कमाई पूंजीपतियों के हवाले कर देना चाह रही है। फोरम के प्रदेश संयोजक वाईके अरोड़ा ने कहा कि सरकार बैंकों का निजीकरण कर पूंजीपतियों के हाथ मजबूत करना चाहती है। मीडिया प्रभारी अनिल तिवारी के अनुसार हड़ताल के दूसरे दिन राजधानी में सभा व प्रदर्शन इंडियन बैंक शाखा हजरतगंज समेत विभिन्न शाखाओं पर किया जा रहा है।

निजीकरण के विरोध में बीमा कर्मी भी करेंगे हड़ताल

नेशनल इंश्योरेंस कंपनी के हजरतगंज स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में हुई बैठक में बीमा कर्मियों व अधिकारियों के संयुक्त प्रदर्शन का 17 मार्च को संगठन ने ऐलान किया है। इस दिन बीमा उद्योग संबंधित नेशनल, ओरिएंटल इंश्योरेंस, न्यू इंडिया इंश्योरेंस में सभी कार्यालय बंद रहेंगे। संयुक्त मोर्चा के संयोजक सुधीर सक्सेना ने बताया कि अगस्त 2017 से लंबित वेतन पुनरीक्षण के लिए वार्ता एनपीएस का समाप्त कर सभी को पेंशन स्कीम 1995 का लाभ समेत अन्य मांगे पूरी करवाने के संयुक्त हड़ताल की जाएगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: