यूपी राज्यपाल आनंदीबेन ने बलरामपुर जिले के इमिल्या कोडर में कम्प्यूटर लैब का किया लोकार्पण

*महामहिम राज्यपाल ने किया महाराणा प्रताप ग्रामोदय इंटर कॉलेज इमलिया कोडर में कंप्यूटर लैब का लोकार्पण*

*आंगनबाड़ी केंद्र का बालक के विकास में महत्वपूर्ण स्थान – महामहिम राज्यपाल*

*बेटियों को शिक्षा दिलाने में आनाकानी ना करें अभिभावक – महामहिम राज्यपाल*

*नई शिक्षा नीति रिसर्चस, वैज्ञानिक, व वैदिक कालीन एवं प्राचीन शिक्षा के महत्व को ध्यान में रखते हुए की गई है तैयार – महामहिम राज्यपाल*

*अंग्रेजों द्वारा बनाई गई शिक्षा व्यवस्था के इतर भारतीय शिक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई नई शिक्षा नीति – महामहिम राज्यपाल*

दिनांक 18 मार्च 2021

महामहिम राज्यपाल आनंदीबेन पटेल द्वारा महाराणा प्रताप ग्रामोदय इंटर कॉलेज इमलिया कोडर पहुंच कर विद्यालय में बने कंप्यूटर लैब का लोकार्पण किया गया। इस अवसर पर माननीय महामहिम राज्यपाल द्वारा महाराणा प्रताप जी के प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया एवं थारू जनजाति द्वारा लगाए गए प्रदर्शनी का अवलोकन किया गया। इस अवसर पर थारू छात्र-छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं थारु नृत्य शैली प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए महामहिम राज्यपाल जी ने कहा कि राजभवन द्वारा सामान्यता एक या दो लाख से ज्यादा का अनुदान नहीं दिया जाता राजभवन की कोशिश यह रहती है कि अधिक से अधिक लोगों को अनुदान का लाभ दिया जाए किंतु थारू जनजाति के छात्र छात्राओं को कंप्यूटर शिक्षा का ज्ञान दिए जाने हेतु राजभवन द्वारा विद्यालय को साढे़ आठ लाख रुपए का अनुदान दिया गया। महामहिम राज्यपाल जी ने कहा कि अभिभावक बेटियों को अवश्य शिक्षा प्रदान करवाएं। महामहिम राज्यपाल जी ने बताया कि उन्होनें 700 लड़कों के बीच विद्यालय में शिक्षा प्राप्त की। महामहिम राज्यपाल जी ने कहा कि विद्यालय में नामांकन से पूर्व सभी अभिभावक अपने बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्र अवश्य भेजें। आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चे अच्छे संस्कार सीखते हैं और जीवन भर उन संस्कारों को अपने साथ रखते हैं। महामहिम राज्यपाल जी ने कहा कि उनका विशेष ध्यान आंगनबाड़ी केंद्रों पर है, आंगनबाड़ी केंद्र पर बच्चों को अच्छा पोषण आहार के साथ-साथ के खिलौनों के माध्यम से मैथ एवं साइंस की शिक्षा दिया जाए जिससे कि बच्चों की सीखने की क्षमता में वृद्धि हो। महामहिम राज्यपाल जी ने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को ऐसी शिक्षा दी जाए जिससे बच्चों का साहस बढें, भाई चारा बढ़े, जाति भावना खत्म हो। माहमहिम राज्यपाल जी ने महाभारत के कोठा युद्ध के बारे में बताते हुए कहा कि वीर अभिमन्यु की शिक्षा माता सुभद्रा के गर्भ से ही प्रारंभ हो गई थी। महामहिम राज्यपाल जी ने कहा कि मुगलों एवं अंग्रेजों के शासनकाल ने भारतीय शिक्षा व्यवस्था को नष्ट करने का कार्य किया एवं अंग्रेजों द्वारा लागू की गई शिक्षा व्यवस्था प्रारंभ हुई। 70 वर्षों से लागू अंग्रेजी शिक्षा व्यवस्था से इतर प्रधानमंत्री जी द्वारा नई शिक्षा नीति लागू की गई है। नई शिक्षा नीति में भारतीय शिक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए लागू की गई है, नई शिक्षा नीति में शिशु वाटिका को विशेष महत्व दिया गया है। महामहिम राज्यपाल जी ने कहा कि सभी शिक्षा के माध्यम से आगे बढ़ने का प्रयास करें एवं सदैव कुछ नया सीखने का प्रयास करें।

  • इस दौरान प्रिंसिपल महाराणा प्रताप ग्रामोदय इंटर कॉलेज रामकृपाल शुक्ल, योगी मिथलेश नाथ जी, माननीय विधायक गैसड़ी शैलेश कुमार सिंह शैलू, विधायक बलरामपुर पलटूराम, विधायक तुलसीपुर कैलाश नाथ शुक्ल,विधायक उतरौला राम प्रताप वर्मा, राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त चंद्रराम चौधरी, रामकृष्ण तिवारी,विधायक तरबगंज गोंडा प्रेम नारायण पांडे, मंडलायुक्त देवीपाटन मंडल एसवीएस रंगाराव,आईजी डॉ राकेश कुमार सिंह, जिलाधिकारी श्रीमती श्रुति, पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल, मुख्य विकास अधिकारी रिया केजरीवाल, अपर जिला अधिकारी अरुण कुमार शुक्ल, अपर पुलिस अधीक्षक अरविंद मिश्र,उप जिलाधिकारी तुलसीपुर विनोद कुमार सिंह, उप जिलाधिकारी बलरामपुर सदर अरुण कुमार गौड़ अन्य संबंधित अधिकारी/कर्मचारी व गणमान्य नागरिक उपस्थित रहें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: