सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा पटना में स्वास्थ्य प्रबंधक की अपनी मनमानी।

0

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा पटना में स्वास्थ्य प्रबंधक की अपनी मनमानी।

सूत्रों के अनुसार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा के स्वास्थ्य प्रबंधक तीन सालों से अधिक समय से ज्यादा जमे बैठे है। एक ही जगह पर ज्यादा समय से जमे रहने के कारण स्वास्थ्य प्रबंधक कर रहे है अपना मनमाना कार्य।

सनोवर खान के साथ राजा कुमार पूट्टू की रिपोर्ट

फतुहा:फतुहा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) में निबंधन के नाम पर लूट।। फतुहा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पर्चा कटाने के नाम पर दो रूपीए के जगह पांच रूपीए लिया जा रहा है। इस तरह का खेल फतुहा (CHC) में कब से चल रहा है या कोई नहीं जानता यह फिर समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा (CHC)स्वास्थ्य प्रबंधक फतुहा की मिली भगत से चल रहा है। जब तक किसी भी अधिकारी का मिली भगत ना हो तब तक ऐसा नही हो सकता है। नाम नही छापने के शर्त पर स्थानिये लोगो ने बताया कि यहाँ नो भी मैनेजमेंट का काम है वो स्वास्थ्य प्रबंधक ही करते है इस लिए स्वास्थ्य प्रबंधक के मिली भगत से ही निबंधन पर्चा की राशि पांच रूपीए लिया जाता है।
जब सदर अस्पताल में निबंधन पर्चा के लिए दो रूपीए लिए जाते है तो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा में पांच रूपीए क्यों?
ग्यारह बजे लेट नही बारह बजे भेंट नही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा में बारह बजे तक ही खुले रहते है निबंधन काउंटर।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा पटना में निबंधन काउंटर पर पर्चा कटाने के लिए जाते है पांच रूपीए,पांच रूपीए लेने के बाबाजूद भी ये पैसे कहाँ जाता है किस मद में जाता है इसका कोई लेखा जोखा नही है। पत्रकारो के द्वारा स्वास्थ्य प्रबंधक से पूछे जाने पर स्वास्थ्य प्रबंधक ने बताने से किया इनकार।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा पटना में रोगी कल्याण समिति एक देखावा। सूत्रों के अनुसार जितने भी समिति है सिर्फ कागजो पर चलाये जा रहे है।
अस्पताल परिसर में नहीं होती साफ-सफाई स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ रहा विपरीत असर
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र परिसर में प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। अस्पताल में बीमार लोगों का इलाज होता है। वहां साफ सफाई और स्वच्छ वातावरण लोगों को मिलता है जिससे कि बीमार दवाओं और स्वच्छ वातावरण में जल्दी स्वस्थ हों पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा में इससे ठीक उलटा देखने को मिल रहा है।
आलम यह है कि मरीजों के भर्ती वार्ड के बेड पर ही गंदे चादर बिछे हुए है उस चादर पर मक्खी और गंदगी का अंबार लगा हुआ है। उसी बेड पर बैठा कर यह फिर सोला कर मरीज का इलाज किया जाता है। जैसा कि आपको बता दे को कोरोना काल की स्थिति को देखते हुए अस्पताल परिसर में साफ सुथरा रखने को कहा गया था। लेकिन फतुहा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पास ही कचरे और गंदगी के ढेर लगे हुए हैं।अस्पताल प्रशासन की मिलीभगत से गेट पर अतिक्रमण कर लोग रखे हुए है। फिर भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतुहा के अस्पताल स्वास्थ्य प्रबंधक द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जाता है सिर्फ कागजों पर खानापूर्ति की जा रही है सूत्रों अनुसार स्वास्थ प्रबंधक सिर्फ पैसे की उगाही के चक्कर में लगे रहते हैं।

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।