बिहार, छपरा।प्रभुनाथ महाविद्यालय में छात्र/ छात्राओं कि अनुपस्थिति से नाराज़ प्राचार्य एवं शिक्षकों ने जतायी नाराजगी।

0

प्रभुनाथ महाविद्यालय में छात्र/ छात्राओं कि अनुपस्थिति से नाराज़ प्राचार्य एवं शिक्षकों ने जतायी नाराजगी।
नयागांव-छपरा-
जिले के प्रभुनाथ महाविद्यालय परसा के प्राचार्य डॉ पुष्पराज गौतम ने शिक्षकों के साथ मिलकर महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति के लिए अनोखी पहल की।
महाविद्यालय में एकेडमिक माहौल बनाने के लिए प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय को याद करते डॉ पुष्पराज गौतम ने महाविद्यालय के मेन गेट पर शिक्षकों के साथ नाराजगी जतायी उन्होंने बताया कि प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने के लिए विश्व भर से विद्वान छात्र आते थे। परंतु आज के महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति न के बराबर रहती है वह सिर्फ परीक्षा फॉर्म भरने, नामांकन कराने, टीसी लेने इत्यादि के लिए महाविद्यालय में आते हैं इसके अलावे इन सारे कार्यों के लिए उनके अभिभावक महाविद्यालय आते हैं जो काफी दुख का विषय है जबकि हमारे विद्वान शिक्षक महाविद्यालय में आकर बिना पढ़ाये वापस चले जाते हैं
प्राचार्य ने बताया कि मैं मिडिया के माध्यम से छात्र/छात्राओं, अभिभावकों, जनप्रतिनिधियों एवं समाज के सभी बुद्धिजीवियों से आग्रह करना चाहता हूं कि छात्राओं को समय से महाविद्यालय आने के लिए उन्हें प्रेरित करें क्योंकि शिक्षा के बिना एक सभ्य समाज एवं सशक्त राष्ट्र का निर्माण संभव नहीं है। प्राचार्य ने यह भी बताया कि इस बार से महाविद्यालय में छात्र छात्राओं की 75% उपस्थिति अनिवार्य कर दी गई है । इससे कम उपस्थिति रहने पर परीक्षा फॉर्म भरने नहीं दिया जाएगा न ही किसी तरह की छात्रवृत्ति योजना का लाभ मिलेगा।
साथ ही अपने सभी कार्यों के लिए छात्र छात्राओं को समय से महाविद्यालय आना होगा। प्राचार्य ने बताया कि अगर नये नामांकित छात्र छात्राएं लगातर एक सप्ताह तक महाविद्यालय नहीं आते हैं तो उनका नामांकन रद्द कर दिया जाएगा।
प्राचार्य का कहना है कि इससे सुदूर ग्रामीण क्षेत्र में स्थित महाविद्यालय द्वारा सभी को सर्व सुलभ शिक्षा उपलब्ध कराना ही हम सभी शिक्षकों का उद्देश्य है।

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।