यूपी के पूर्व सांसद रिज़वान ज़हीर, रिज़वान ज़हीर के दामाद रमीज़ नेमत कांग्रेस नेता दीपांकर सिंह सहित पुलिस ने 11 को भेजा जेल 25 अन्य के खिलाफ भी मामला दर्ज

यूपी गोंडा बलरामपुर के पूर्व सांसद बसपा नेता रिज़वान ज़हीर, रमीज़ नेमत, कांग्रेस नेता दीपांकर सिंह समेत 11, को पुलिस ने गिरफ़्तार कर भेजा जेल। 25 अज्ञात लोगों पर भी पुलिस ने किया मुकदमा दर्ज ।यूपी बलरामपुर पुलिस ने पूर्व सांसद व बसपा नेता रिज़वान ज़हीर उनके दामाद रमीज़ नेमत और कांग्रेस के पूर्व जिला पंचायत सदस्य दीपांकर सिंह समेत 11 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा दिया जेल रिज़वान ज़हीर और उनके दामाद रमीज़ नेमत के गिरफ्तारी की ख़बर जिले में फैलते ही जहाँ जनपद में राजनीतिक सरगर्मियां बेहद हुई तेज वहीं ज़िला प्रशासन भी हुड़दंगी असामाजिक तत्वों के विरुद्ध सख़्त कार्यवाही करने के मूड में है। आप सभी को बताते चलें कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान के बाद हुई हिंसा और आगज़नी से नाराज़ उच्चाधिकारी अभियुक्तों के विरुद्ध एनएसए के तहत कार्यवाही की बात भी कह रहे हैं। एसपी हेमंत कुटियाल और जिलाधिकारी श्रीमती श्रुति ने सख़्त कार्यवाही की बात कही है।
आप सभी को यह भी जानना ज़रूरी है है कि आखिर इतना बड़ा बवाल हुआ तो हुआ कैसे यूपी बलरामपुर जिले के
तुलसीपुर तहसील थाना क्षेत्र के बेलिखुर्द गाँव में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे चरण का मतदान शांतिपूर्ण माहौल में सम्पन्न ही हुआ था कि तभी हिंसा और आगज़नी की ख़बर से प्रशासन में हड़कम्प मच गया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रिज़वान ज़हीर के दामाद रमीज़ नेमत मतदान के अंतिम समय में गाँव पहुंचे ही थे कि तभी दीपांकर सिंह और उनके समर्थकों से उनका आमना सामना हो गया। इसी बीच किसी बात को लेकर दोनों पक्ष आपस में भिड़ गए और बवाल शुरू हो गया। सूत्रों के अनुसार दीपांकर सिंह के समर्थकों ने रिज़वान ज़हीर के दामाद पर क़ातिलाना हमला करते हुए रमीज़ नेमत को बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया इसी बीच ग्रामीणों ने रमीज़ की जान बचाने के लिए दीपांकर सिंह के समर्थकों को खदेड़ दिया। दीपांकर समर्थक अपनी लग्ज़री गाड़ियां छोड़ कर फ़रार हो गए।

सूत्रों के अनुसार रमीज़ पर हत्या के प्रयास की खबर मिलते ही रिज़वान ज़हीर, रिज़वान ज़हीर की पुत्री बीएसपी नेता ज़ेबा रिज़वान भी अपने समर्थकों के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए जेबा अपने घायल पति रमीज़ का हाल चाल जानने लगीं इसी बीच कुछ असामाजिक तत्वों ने सुनियोजित षड़यन्त्र के तहत दीपांकर सिंह की दो लग्ज़री गाड़ियों में आग लगा दी। सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। सूत्रों ने यह भी बताया कि घायल पति पर हुए क़ातिलाना हमले से नाराज़ ज़ेबा रिज़वान और पुलिस के बीच काफ़ी देर तक तीखी बहस भी हुई जिस्से हालात बेक़ाबू होने लगे। स्थिति बिगड़ने की सूचना पर उच्चाधिकारी भी घटना स्थल पर पहुँच गए और सूझ बूझ के साथ हालात को क़ाबू में करते हुए शान्ति व्यवस्था को बहाल किया।

सूत्रों के अनुसार स्थिति की संवेदनशीलता और गंभीरता को देखते हुए एसपी हेमंत कुटिया ने फ़ौरी सख़्त कार्यवाही करते हुए 27 अप्रैल की सुबह लगभग 3.30 बजे के क़रीब बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ जहाँ रिज़वान ज़हीर को उनके तुलसीपुर आवास से गिरफ़्तार कर लिया वहीं काँग्रेस नेता दीपांकर सिंह और रिज़वान के दामाद रमीज़ के साथ ही आदिल, आकिब, साजिद, सोएब, फ़िरोज़, शुभांकर और शुभम समेत 11, लोगों को भी गिरफ़्तार कर लिया। रिज़वान ज़हीर के गिरफ्तारी की खबर सार्वजनिक हुई तो, ज़िले की राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई और सार्वजनिक स्तर पर भी अफ़वाहों का बाज़ार गर्म हो गया।

रिज़वान ज़हीर के कुछ समर्थकों ने बताया कि दीपांकर सिंह के कहने पर उनके समर्थकों ने पूर्व सांसद के दामाद रमीज़ नेमत पर क़ातिलाना हमला करते हुए उनके साथ मारपीट की और हत्या का प्रयास किया मगर गाँव वालों की तत्प्रता से रमीज़ की जान बच गई। समर्थकों के आरोपों के अनुसार दीपांकर सिंह ने सुनियोजित षड़यन्त्र के तहत ख़ुद ही अपने समर्थकों से गाड़ियों में आग लगाई ताकि वह ख़ुद को क़ानूनी कार्यवाही से बचा सकें और रिज़वान ज़हीर की छवि को धूमिल कर सकें।

वहीं दीपंकर सिंह के कुछ समर्थकों ने कहा कि रिज़वान ज़हीर के दामाद रमीज़ नेमत जबरन बूथ पर क़ब्ज़ा करना चाह रहे थे विरोध करने पर उन्होंने बवाल और मारपीट की किसी तरह से दीपांकर समर्थकों ने भाग कर अपनी जान बचाई। समर्थकों ने यह भी कहा कि रिज़वान ज़हीर की शैह पर उनके समर्थकों ने दीपांकर की गाड़ियों में आग लगाई और उत्पात मचा कर क्षेत्र में दहशत फैलाने का काम किया।

बता दें कि पूर्व सांसद रिज़वान ज़हीर की पत्नी, पूर्व ज़िला पंचायत अध्यक्ष हुमा रिज़वान नवांनगर ज़िला पंचायत क्षेत्र से बसपा समर्थित प्रत्याशी हैं और इसी क्षेत्र से दीपांकर सिंह की पत्नी अरुणिमा सिंह भी प्रत्याशी हैं।

पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल ने पत्रकारों से वार्ता के दौरान कहा कि जब पोलिंग समाप्त हो गई उसके बाद बेली गाँव के नन्दमहरा चौकी थाना तुलसीपुर क्षेत्र में दो प्रत्याशियों के समर्थक आपस में भिड़ गए। एक पक्ष ने आगज़नी भी की और काफ़ी बवाल भी किया। इस प्रकरण में त्वरित कार्यवाही करते हुए रात्रि में ही मुक़दमा दर्ज करते हुए 11, लोगों को गिरफ़्तार कर लिया गया इसमें प्रमुख है रिज़वान ज़हीर, रिज़वान ज़हीर के दामाद रमीज़ नेमत और दीपांकर सिंह हैं । एसपी ने पत्रकारों को यह भी बताया कि अभियुक्त पूर्व सांसद रिज़वान ज़हीर एक आपराधिक इतिहास वाला व्यक्त है जिसपर 2003 से पूर्व हत्या और हत्या के प्रयास समेत कई गम्भीर मामले हैं और यह थाना हर्रया से हिस्ट्री शीटर भी है जिसकी निगरानी थाने पर लगातार हो रही थी। एक सवाल के जवाब में एसपी हेमंत कुटियाल ने बताया कि अभियुक्तों के विरुद्ध एनएसए की भी कार्यवाही की जाएगी। पुलिस शान्ति व्यवस्था बनाए रखने में पूरी तरह कामियाब हुई है और भविष्य में भी ज़िला की शान्ति व्यवस्था पर कोई प्रश्न चिन्ह लगने नहीं दिया जाए गा। तहलका न्यूज़ अपडेट

Leave a Reply

%d bloggers like this: