फिल्म अभिनेत्री जूही चावला पहुंची 5G टेस्टिंग के खिलाफ कोर्ट दायर किया दिल्ली हाईकोर्ट में मुकदमा

*जूही चावला पहुंची कोर्ट, 5G टेक्नोलॉजी के खिलाफ दायर किया मुकदमा*

बॉलीवुड अभिनेत्री जूही चावला ने पिछले कई सालों से मोबाइल फोन की 5जी तकनीक को लेकर चिंता जता रही हैं. एक्ट्रेस का कहना है कि लोगों की सेहत पर रेडियोफ्रिक्वेंसी के संभावित हानिकारक प्रभावों का विश्लेषण किए बगैर इसे लागू नहीं किया जाना चाहिए. अब इस मामले को आगे बढ़ाते हुए एक्ट्रेस ने अदालत का दरवाजा भी खटखटाया है. जूही चावला ने अब भारत में 5जी टेक्नोलॉजी को लागू करने के खिलाफ एक याचिका मुम्बई हाई कोर्ट में दायर की है जिसकी पहली सुनवाई आज होनी है.

मीडिया रिपोर्ट की माने तो जूही चावला ने अपनी इस याचिका में भारत सरकार के दूरसंचार मंत्रालय से आम लोगों, तमाम जीव-जंतुओं, वनपसस्तियों और पर्यावरण पर 5जी टेक्नोलॉजी के लागू किये जाने से पड़ने वाले असर से जुड़े अध्ययन को बारीकी से कराने और ऐसे रिपोर्ट्स के आधार पर भी इसे भारत में लागू करने और नहीं करने को लेकर कोई फैसला करने की अपील की है. जूही चावला रेडिएशन के प्रति जागरूकता लाने का काम करती आ रही हैं. केंद्र डिजिटल इंडिया के लक्ष्यों को पाने के लिए 5जी लागू करने जा रहा है, इस बीच जूही ने पूछा है कि इस नई तकनीक पर क्या पर्याप्त शोध किया गया है?

जूही चावला के प्रवक्ता ने एक आधिकारिक बयान में कि भारत में 5जी टेक्नोलॉजी को लागू किये जाने से पहले RF रेडिएशन से मानव जाति, महिला, पुरुषों, व्यस्कों, बच्चों, शिशुओं, जानवरों, जीव-जंतुओं, वनस्पतियों और पर्यावरण पर पड़नेवाले प्रभावों को लेकर अच्छे से अध्ययन किया जाए और इससे संबंधित किये गये अथवा किये जानेवाले तमाम रिपोर्ट्स को सार्वजनिक किया जाए. प्रवक्ता का कहना है कि इस तरह के अध्ययन से स्पष्ट किया जाना जरूरी है कि क्या 5जी टेक्नोलॉजी भारत की मौजूदा और आनेवाली पीढ़ी के लिए सुरक्षित या नहीं और इसके बाद ही इसे लागू करने को लेकर विचार किया जाए.

Leave a Reply

%d bloggers like this: