आरएसएस फाउंडेशन राष्ट्रीय इंडिया ट्रस्ट की राष्ट्रीय अध्यक्ष चांदनी शाह बानो ने धन्नीपुर इंडोइस्लामिक कल्चर मस्जिद व बाबा अब्दुर्रहमान शाह के मजार पर दी हाजरी

अयोध्या,दिन बुधवार
चांदनी शाह बानो राष्ट्रीय अध्यक्ष आरएसएस फाउंडेशन इंडिया ट्रस्ट, मध्यक्षेत्र संयोजिका MRM महिला प्रकोष्ठ उप्र, तथा सर्व धर्म समभाव राष्ट्रीय मंच महासचिव उप्र ने धन्नीपुर इंडोइस्लामिक कल्चर मस्जिद स्थित बाबा अब्दुल रहमान शाह मज़ार,
तथा इमामेहिन्द भगवान श्रीराम जन्म भूमि मंदिर का दर्शन करते हुए कहा कि दर्शन वह ज्ञान है जो परम् सत्य और सिद्धान्तों, और उनके कारणों की विवेचना करता है। दर्शन यथार्थ की परख के लिये एक दृष्टिकोण है। दार्शनिक चिन्तन मूलतः जीवन की अर्थवत्ता की खोज का पर्याय है। वस्तुतः दर्शनशास्त्र स्वत्व, तथा समाज और मानव चिंतन तथा संज्ञान की प्रक्रिया के सामान्य नियमों का विज्ञान है। दर्शन सामाजिक चेतना के रूपों में से एक है।
दर्शन उस विद्या का नाम है जो सत्य एवं ज्ञान की खोज करता है। व्यापक अर्थ में दर्शन, तर्कपूर्ण, विधिपूर्वक एवं क्रमबद्ध विचार की कला है। इसका जन्म अनुभव एवं परिस्थिति के अनुसार होता है। यही कारण है कि संसार के भिन्न-भिन्न व्यक्तियों ने समय-समय पर अपने-अपने अनुभवों एवं परिस्थितियों के अनुसार भिन्न-भिन्न प्रकार के जीवन-दर्शन को अपनाया।
भारतीय दर्शन का इतिहास अत्यन्त पुराना है। यह पीढ़ी दर पीढ़ी अर्जित दर्शन है इसके जड़ तक जाना असम्भव है

Leave a Reply

%d bloggers like this: