बलरामपुर में बाल श्रम निषेध दिवस पर बाल श्रम से मुक्त कराए गए बच्चों ने सुना श्रम मंत्री का वर्चुअल संवाद

*अंतर्राष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस पर बाल श्रम से मुक्त कराए गए बच्चों ने सुना माननीय श्रम मंत्री जी का वर्चुअल संवाद*

 

*बच्चे राष्ट्र के स्वर्णिम भविष्य हैं,आज बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर हम सभी बाल मजदूरी को समाप्त करने का करें संकल्प- श्रम प्रवर्तन अधिकारी*

 

दिनांक 12 जून 2021

 

अंतर्राष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर माननीय श्रम एवं सेवायोजन मंत्री द्वारा प्रदेश के सभी जनपदों को वर्चुअल रूप से संबोधित करते हुए नया सवेरा योजना के तहत बालश्रम से मुक्त कराए गए बच्चों व उनके परिजनों से बातचीत की गई। इस अवसर पर जनपद में बाल श्रम से मुक्त कराए गए बच्चों एवं उनके परिजनो द्वारा माननीय मंत्री जी के संवाद को सुना गया।

श्रम प्रवर्तन अधिकारी श्री भूपेंद्र मिश्र ने बताया कि जनपद बलरामपुर में कुल 57 हॉटस्पॉट चिन्हित है, जिसमें 2113 बच्चों को बाल श्रम से मुक्त करा कर विद्यालय में प्रवेश से कराया गया, इसमें से 608 बच्चों के परिजनों का निर्माण श्रमिक के रुप में श्रम विभाग में पंजीयन कराया गया है।

इस अवसर पर श्रम विभाग द्वारा संचालित पुत्री विवाह एवं स्वास्थ्य सुविधा सहायता योजना का स्वीकृति प्रमाण पत्र तीन श्रमिकों को प्रदान किया गया।

 

इस अवसर पर श्रम प्रवर्तन अधिकारी ने कहा कि बाल श्रम एक ऐसा अभिशाप है जो बच्चों के सुनहरे बचपन को छीन लेता है, यह बच्चों के मानसिक शारीरिक तथा बौद्धिक विकास को बाधित करता है। बच्चे राष्ट्र का स्वर्णिम भविष्य हैं उनसे मजदूरी कराना कानूनन अपराध है, आज बाल श्रम निषेध दिवस पर हम सब मिलकर देश से इस सामाजिक बुराई को जड़ से खत्म करने एवं  प्रत्येक बच्चे को उनका अधिकार दिलाने का दृढ़ संकल्प करें।

 

इस अवसर पर श्रम विभाग एवं बाल श्रम परियोजना बलरामपुर के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: