बलरामपुर सीएमओ ने स्वास्थ्य व प्रशासनिक टीम के साथ बाढ़ राहत चौकी का किया औचक निरीक्षण

तहलका न्यूज़ परिवार के ओर से आप सभी देश वासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं संपादक मिट्ठू शाह
कोरोना अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है इस लिए मास्क ज़रूर पहनें और सावधानी बरतें

फ्रंटलाइन वर्कर गांव में रहकर बाढ़ पीड़ितों के स्वास्थ्य पर रखें नजर: सीएमओ। सीएमओ ने स्वास्थ्य व प्रशासनिक टीम के साथ बाढ़ राहत चौकी का किया औचक निरीक्षण बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोगों के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एड्वाइजरी। बलरामपुर, 19 अगस्त। बाढ़ प्रभावित गांवों के फ्रंट लाइन वर्कर अपने क्षेत्र में ही रहकर लोगों के स्वास्थ्य पर नजर बनाए रखें। उनके सहयोग के लिए प्रशासन द्वारा नावों व एम्बुलेंस की ड्यूटी लगाई गई है। जिससे किसी का जीवन खतरे में ना पड़े। जीवन रक्षक दवाएं और एएसवी भरपूर मात्रा में उपलब्ध है। सभी कर्मचारियों अधिकारियों के सम्पर्क में रहें और किसी भी विपरीत परिस्थिति की सूचना तुरंत उपलब्ध कराएं। जिससे समय रहते पीड़ित व्यक्ति को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाई जा सकें। गुरूवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सुशील कुमार ने यह बातें उतरौला तहसील में स्थापित बाढ़ राहत चौकी महुआधनी के औचक निरीक्षण के दौरान बताई। सीएमओ के साथ अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. ए.के. सिंघल, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. अरूण कुमार व एमओआईसी डा. चंद भी मौजूद रहे। सीएमओ ने कर्मियों को निर्देश दिया कि बाढ़ के दौरान विशेष तौर पर सभी के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखा जाए और उन्हे दवाएं उपलब्ध करवाई जाएं। उन्होने कहा कि यदि किसी गांव में बाढ़ का पानी भरा है और व्यक्ति की तबीयत खराब हो जाती है तो वहां की आशा तुरंत उसे नाव से सड़क तक लाएंगी जिसके बाद वहां पर एम्बुलेंस उपलब्ध करवाकर बीमार व्यक्ति का इलाज करवाया जाएगा। इसके लिए सभी आशा, आशा संगिनी व एएनएम अपने एमओआईसी से सम्पर्क में रहेंगी। यदि आशा स्वास्थ केन्द्र तक नहीं पहुंच पा रही है तो उसके गांव में नाव के सहारे जीवन रक्षक दवाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी।
-छोटी बांसी मछली का ना करें सेवन डीआईओ डा. अरूण कुमार ने बताया कि बाढ़ के दौरान अक्सर देखा जाता है कि लोग नदी, तालाब, नहर व जलभराव वाले स्थानों पर लोग मछली पकड़कर झोले में रखकर बेंचते है। ऐसी बासी मछलियों को खाने से आपका स्वास्थ्य खराब हो सकता है। इसलिए इस प्रकार की मछिलयों का सेवन ना करें।
-बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोग पानी उबालकर पिएं एसीएमओ डा. ए.के. सिंघल ने बताया कि बाढ़ प्रभावित गांवों के लोग पानी को सीधे पीने के बजाए उबाल कर पियें। पीने से पहले पानी में क्लोरीन की गोली मिला लें। ऐसा ना करने पर गंदा पानी पीने से लोग संक्रामक बीमारी के चपेट में आकर बीमार पड़ सकते है। इसलिए बाढ़ के दौरान बीमारी में जानकारी ही बचाव हैै ।
-बाढ़ के दौरान क्या करें
पीने के लिए साफ उबले पानी को छानकर पिएं या इंडिया मार्का टू हैंडपम्प के पानी का प्रयोग करें। 20 लीटर पानी में क्लोरीन की एक गोली जरूर डालें। गरम ताजा व पचने योग्य भोजन ही करें। उल्टी दस्त से पीड़ित व्यक्ति के मल मिट्टी या राख से ढंक दें जिससे मक्खी ना बैठ सके। खाना खने से पहले व शौच के बाद हाथ साबुन से घुलें। दस्त आने पर ओआरएस का घोल पिएं व सरकारी अस्पताल से सम्पर्क करें। बाढ़ में ये ना करें तालाब पोखरे व गंदे कुएं का पानी ना पिएं। पीने के पानी के आसपास गंदगी ना जमा होने दें। बासी व भारी भोजन ना करें। पीने का पानी खुला ना रखें। गंदे हाथ से खाना ना बनाएं ना खाएं। बीमार होने पर झोलाछाप डाक्टरों से इलाज कराने के बजाय सरकारी अस्पताल में इलाए कराएं। बच्चों को हो उल्टी दस्त तो दें ओ.आर.एस.यदि कोई बच्चा उल्टी दस्त से पीड़ित हो तो ओआरएस का एक पैकेट एक लीटर साफ पानी में घोलकर तुरंत पिलाना शुरू करें। यदि ओआरएस का पैकेट उपलब्ध नहीं है तो एक गिलास साफ पानी में एक चुटकी नमक व एक चम्मच चीनी मिलाकर पिलाएं। पानी जैसा मल होने, बार बार उल्टी होने, अत्यधिक प्यास लगने, पानी ना पी पाने, बुखार होने व मल में खून आने पर आशा, एएनएम व नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में सम्पर्क करें। तहलका न्यूज़ के लिए मिट्ठू शाह की रिपोर्ट TAHALKANEWS OFFICE CON NO 9198041777

Leave a Reply

%d bloggers like this: